March 26, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • शहीद मिश्रीलाल का हुआ अंतिम संस्कार

शहीद मिश्रीलाल का हुआ अंतिम संस्कार

By on July 14, 2018 0 237 Views

कश्मीर में आतंकवादी हमले में शहीद हुए टोंक के राजमहल के मिश्रीलाल मीना का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव रावता माता जी मे किया गया,इससे पहले उनकी पार्थिव देह को हेलीकॉप्टर से देवली लाया गया जंहा से सडक मार्ग से शव उनके घर पहुचा,ओर जब तक सूरज चांद रहेगा मिश्री लाल तेरा नाम रहेगा के नारों से वातावरण गूंज उठा। कश्मीर के अनन्तनाग में आतंकवादी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के सेक्शन कमांडर मिश्री लाल का अंतिम संस्कार उनके गांव में राजकीय सम्मान के साथ किया गया,इससे पहले उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया,जिसमें राजस्थान सरकार कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी,सांसद सुखबीरसिंहजौनापुरिया,विधायक राजेन्द्र गुर्जर,टोंक विधायक अजीत सिंह मेहता,जिला कलेक्टर रामचन्द्र सहित कई राजनेता,अधिकारी और हजारो ग्रामीण मौजूद रहे,


शुक्रवार की सुबह 10 बजे के करीब अनन्तनाग में पहलागाम रोड पर हुए आतंकी हमले में ड्यूटी में गश्त के दौरान टोंक जिले के देवली उपखंड के ग्राम राजमहल निवासी सीआरपीएफ के सेक्शन कमांडर के पद पर कार्यरत मिश्री लाल मीणा पुत्र कालू राम मीणा शहीद हो गए,जिनका अन्तिम संस्कार आज किया गया, मिश्री लाल मीणा के शहीद होने की खबर पहुंचते ही ग्राम के साथ आस पास के क्षैत्र में शोक की लहर दोड गई। सीआपीएफ में एएसआई के पद पर कार्यरत सेंक्शन कमाण्डर अपने दल में 8-10 जवानों को साथ लेकर अनन्तनाग में पहलगाम रोड पर गश्त कर रहे थे,इस दौरान इनके दल पर आतंकी हमला हो गया,हमले में गोली बारी के दौरान मिश्री लाल मीणा के दो गोलीया लगी जिनमें से एक गर्दन पर व एक सीने पर गोली लगने से मीणा व उनके साथ एक ओर जवान शहीद हो गया,जिनका अन्तिम संस्कार उनका शव पहुंचने पर सैनिक सम्मान के साथ पेतृक गांव में किया गया,वह एक पुत्र व दो पुत्रीयां पीछे छोड गए है।सेना में कार्यरत मिश्री लाल मीणा पुत्र कालू राम मीणा अपने पीछे अपनी पत्नि के साथ एक पुत्र जो बैंक में कार्यरत है तथा दो पुत्रियां छोड गए है,शहीद अपनी दोनों पुत्रियों का विवाह 8 फरवरी 2018 को कर अपनी छुट्टी पूरी कर वापस ड्यूटी पर गए थे,मीणा चार भाईयों में तीसरे थे,तथा परिवार में होनहार थे, मीणा बचपन से ही देश की सेवा में जाने की बाते करते रहते थे तथा उन्होने देश सेवा को ही अपना मार्ग बनाया तथा सेना में चले गए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!