March 20, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • सआदत अस्पताल की अव्यवस्थित चिकित्सा व्यवस्था

सआदत अस्पताल की अव्यवस्थित चिकित्सा व्यवस्था

By on July 9, 2018 0 188 Views

जिला का सबसे बड़ा अस्पताल होने के बावजूद सआदत अस्पताल की चिकित्सा व्यवस्था साधारण पीएचसी से ज्यादा नही हैं, जहां चिकित्सक ना तो मरीजों ठीक ढंग से बात करते हैं और नाही सफाई व्यवस्था को लेकर अस्पताल प्रषासन चिंतित नजर आ रहा हैं, दूसरी ओर जहां राज्य के प्रत्येक सरकारी चिकित्सा केन्द्र पर आज प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृृत्व अभियान के जरिये गुणवत्तापूर्ण प्रसव के लिए षिविर लगाकर जा रहे हैं वही अस्पताल के जनाना अस्पताल में पिछले पांच से सोनोग्राफी की मषीन ही खराब पड़ी हैं इससे बडे दुर्भाग्य की बात क्या होगी कि पिछले एक दषक से मूलभुत सुविधाओं की कमी से जूझ रहे है सआदत अस्पताल के लिए करोड़ों का बजट स्वीकृत होने के बावजूद उसकी व्यवस्थाओं में सुधार नही आ पाया हैं। टोंक जिला मुख्यालय पर स्थित सआदत अस्पताल में चिकित्सा व्यवस्था की हालत यह है कि दूर-दूर से आने वाले मरीजों को पहले तो चिकित्सा को दिखाने के लिए पर्ची कांउटर के पर धक्के खाना पड़ता है वही जैसे-तैसे पर्ची कटवाकर जब वह चिकित्स के पास पहुंचता है तों या तो डाॅक्टर को अस्पताल में बैठने का समय खत्म हो जाता है और डाॅक्टर मिल भी जाए तो मरीजों के प्रति उनका व्यवस्था गैर-जिम्मेदारा रहता है, आउटडोर में दिखाने के लिऐ आने वाले लगभग हर मरीज व उनके परिजनों की यह षिकायत रहती हैं। वही दूसरी ओर जहां आज राज्य प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से लेकर जिला अस्पतालों में प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत षिविर लगाकर प्रसुताओं को गुणवत्तापूर्ण प्रसव की जानकारी देने के साथ ही जरूरी उपचार किया जा रहा हैं, वही जिले का सबसे बड़ा अस्पताल होने के बावजूद यहां की प्रसताए इससे अछूती है। अस्पताल के मेडिकल रिलीफ सोसायटी सदस्य मनीष तोषनवाल आरोप लगाते हुए कहते है यहां पर चिकित्सक महीनेभर में मुष्किल से 30 से 35 प्रसुताओं को ही उपचार दे पाते हैं वही पिछले पांच दिन से खराब पड़ी सोनाग्राफी की मषीन भी अस्पताल की चिकित्सा व्यवस्था की पोल खोलने के लिए काफी हैं। जबकि करोड़ो की लागत से बने मातृ षिषु स्वास्थ्य केन्द्र या जनाना अस्पताल में स्टाफ की कर्मी सहित कई तरह की षिकायते मरीजो के परिजन व आमजन करते दिखाई देते हैं

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!