November 13, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • टोंक में मिलीभगत से चलता बजरी कारोबार।

टोंक में मिलीभगत से चलता बजरी कारोबार।

By on August 8, 2018 1 414 Views

 

 शिवदासपुरा पुलिस ने पकड़े 14 बजरी के वाहन।

टोंक बनास में सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद बजरी का अवैध खनन जारी जिसका प्रमाण जयपुर के शिवदासपुरा थाने में थानाधिकारी की ओर से पकड़े गए 14 बजरी के वाहन है, यह सभी ट्रोले,डंपर,ट्रेक्टर टोंक बनास नदी से बजरी भरकर जयपुर के लिए निकले थे लेकिन शिवदास पूरा थाने की सीमा में घुसते ही इन वाहनों को किया गया जब्त ओर ड्राइवरों को भी किया गया है गिरिफ्तार।
टोंक में पुलिस अधीक्षक योगेश दाधीच के प्रयासों को संभवतया नीचे के अधिकारी स्पोर्ट नही कर रहे है तभी तो आरएसी के जवान माइनिग विभाग को दिए जाने के बाद भी बजरी का खेल टोंक जिले में देवली,टोंक,निवाई में निरन्तर जारी है और यह सारा खेल पुलिस और
प्रशासन की मिलीभगत को दर्शाता है, अवैध बजरी का काला कारोबार शायद एक मोटा मुनाफा देता है और अधिकारी अपना ईमान बेच चुके है,बीती रात से सुबह तक शिवदासपुरा थाने में बजरी से भरे 5 ट्रेलर, 4 डंपर, 5 ट्रैक्टर-ट्रॉलियां समेत 14 वाहन जब्त किये गए और ड्राइवरों को भी किया गया है गिरिफ्तार यह शिवदासपुरा पुलिस की बड़ी कार्रवाई है जो कि पहले भी की जा चुकी है लेकिन क्या टोंक पुलिस को इससे कोई फर्क नही पड़ता है।
टोंक से लेकर जयपुर-कोटा-अजमेर तक  दिन-रात अवैध रूप से बजरी का खनन ओर परिवहन जारी है जबकि राजस्थान में बजरी खनन पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक लगी हुई है इसके उपरांत भी बजरी माफियाओं में कानून के प्रति कोई डर नहीं है…क्यो की पुलिस और प्रसाशन की मिलीभगत से चलता है यह सारा खेल ओर सड़को पर शहरों से लेकर हाइवे तक दौड़ते अवैध बजरी से भरे ट्रक, डंपर और ट्रैक्टर-ट्रॉली पुलिस प्रशासन की मिलीभगत को दर्शाते है ,जहां बेखौफ अवैध रूप से बजरी का परिवहन हो रहा है। बीतीरात भी जयपुर के शिवदासपुरा थाना पुलिस ने बजरी से भरे 5 ट्रेलर, 4 डंपर, 5 ट्रैक्टर-ट्रॉलियां समेत 14 वाहनों को जब्त किया, पुलिस सब इंस्पेक्टर प्रेमकुमार शर्मा ने जानकारी दी है  कि इस कार्यवाही में बजरी परिवहन करते वाहन चालको को भी गिरफ्तार किया है जिसकी सूचना माइनिग विभाग को दे दी गई है।
1 Comment
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!