February 23, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Tonk Special
  • विधानसभा चुनाव 2018 विश्लेषण (मालपुरा)

विधानसभा चुनाव 2018 विश्लेषण (मालपुरा)

By on December 10, 2018 0 190 Views

 

विधानसभा चुनाव 2018 के बाद स्थिती

 

टोक जिले में विधानसभा की चार सीटों पर चुनाव के बाद माना जा रहा हैं कि टोंक व निवाई सीट पर कांग्रेस की जीत लगभग निश्चित हैं। वही मालपुरा सीट पर कांग्रेस समर्थित रालोद के प्रत्याशी रणवीर पहलवान की जीत की संभावनाए अधिक हैं। वही देवली-उनियारा सीट पर कड़ा मुकाबला होने की संभावना हैं। टोंक जिलें में चारो सीटों पर कुल 9 लाख 81 हजार 121 मतदाता हैं जिसमें से 1326 सरकारी कर्मचारी मतदाताओं ने सरकारी प्रशिक्षण के दौरान अपने मत का प्रयोग किया। वही ईवीएम मशीन से 9 लाख 79 हजार 795 मतदाताओं में से 7 लाख 5 हजार 696 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया हैं और जिले की चार सीटों पर कुल 72.02 प्रतिशत मतदान हुआ। इसमें टोंक में 75.76 प्रतिशत, मालपुरा में 72.36 प्रतिशत, निवाई में 69.87 प्रतिशत और देवली-उनियारा में 70.57 प्रतिशत मतदान हुआ हैं। कुल मिलाकर जिले में चार सीटों में से तीन सीटों पर कांग्रेस जीत की ओर अग्रसर हैं। वही देवली-उनियारा सीट पर कड़े मुकाबले में किसी की भी जीत हो सकती हैं। यह सीट बीजेपी के खाते जा सकती हैं और ऐसा होता हैं तों टोंक में कांग्रेस के पक्ष में 3-1 से लीड रह सकती हैं। जबकि 2013 के चुनावों में बीजेपी ने जिले की चारों सीटों पर जीत हासिल की थी।

मालपुरा विधानसभा सीट (94)

 

जिले की चार सीटों में से मालपुरा विधानसभा सीट जाट-गुर्जर-मुस्लिम बाहुल्य सीट हैं। और यह सीट 2008 में परिसिमन के बाद मालपुरा-टोडारायसिंह के रूप में विधानसभा सीट बनी। इस सीट पर अब तक हुए 15 चुनावों में जहां पांच बार कांग्रेस का कब्ज रहा हैं वही भाजपा ने यहां से 3 बार चुनाव जीता हैं। 2018 के चुनावों में जहां बीजेपी ने फिर से निवर्तमान विधायक कन्हैयालाल चैधरी को चुनाव में उतारा हैं वही कांग्रेस ने रालोद से समझौते में यह सीट रणवीर पहलवान को दी है। इस सीट पर रणवीर पहलवान 2008 में निर्दलीय के रूप में चुनाव जीत चुके हैं। वह जाटों के साथ गुर्जर एवं मुस्लिम मतदाताओं पर उनकी अच्छी खासी पकड़ रही हैं। वही दूसरी ओर विधायक कन्हैयालाल चैधरी की कार्यशैली को लेकर सवाल उठने के साथ ही उनके नाम की घोषणा से पूर्व और बाद में उनका घोर विरोध में बीजेपी में ही देखने को मिला था। जिसका नुकसान उन्हे हो सकता हैं। इस सीट पर रणवीर पहलवान जीतते हुए नजर आ रहे हैं। 2 लाख 45 हजार 221 मतदाताओं वाली मालपुरा विधानसभा सीट पर 7 दिसंबर को हुए मतदान में 2 लाख 44 हजार 904 मतदाताओं में से एक लाख 77 हजार 207 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इस सीट पर 317 सरकार कर्मचारियों ने अपना मतदाधिकार का प्रयोग पोस्टल बेलेट के माध्यम से किया। वह इसी सीट पर 72.36 प्रतिशत मतदान हुआ। रणवीर पहलवान की जीत की संभावना के पीछे बड़ी वजह यह भी हैं कि मालपुरा क्षेत्र में पहलवान की पकड़ होने के साथ ही 36 कौमों पर उनकी पकड़ होना और सभी समाजों का चुनाव में रणवीर का साथ देना वही दूसरी ओर पिछले पांच साल के दौरान अपने कार्यकाल में बीजेपी विधायक कन्हैयालाल चैधरी पर लगने वाले जातिवाद के आरोप बड़ी वजह हैं। हालांकि 2013 में कन्हैयालाल ने इस सीट पर इतिहास रचते हुए 40 हजार 221 वोटो से जीत हासिल की थी जो कि टोंक की चार सीटों में सबसे बड़ी जीत थी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!