August 21, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Tonk Special
  • बनास पुल पर मंडराता खतरा-बंद किया गया यातायात।

बनास पुल पर मंडराता खतरा-बंद किया गया यातायात।

By on August 8, 2018 0 256 Views

 

टोंक में बनास नदी पर बना पुल हुआ क्षतिग्रस्त ।

एक ही पुल पर से निकाले जा रहे वाहन । 

 

टोंक में बनास नदी पर बना जयपुर-कोटा को जोड़ने वाला पुल क्षतिग्रस्त होने पर इस पर से यातायात को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है और यातायात को एक ही से निकाला जा रहा है,पुल के रास्ते को बंद करके वाहनों को दूसरे पुल से निकाला जा रहा है,बड़ा सवाल यह है कि क्या बनास का यह पल अंतिम सांसे ले रहा है क्या अवैध रूप से लीज धारक ओर बजरी माफियाओ ने किए अंधाधुंध बजरी खनन से खोखले हुए पुल के पिल्लरों के कारण हुआ है पुल क्षतिग्रस्त फिलहाल कोई भी अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहा है रास्ता बंद है और मौके पर पुलिस तैनात है।
पिछले कुछ सालों पर समय समय पर बनास के पुल को नुकसान की खबरे सुर्खिया बटोरती रही है पर पीडब्ल्यूडी हाइवे विभाग और जिम्मेदार महकमो के कानों पर जु महज खानापूर्ति जितनी ही रेंगती आई है अब एक बार फिर से बनास का क्षतिग्रस्त पुल आवागमन के लिए बंद कर दिया गया है कोटा -टोंक की ओर से जयपुर की तरफ जाने वाले वाहनों को दूसरे पुल पर से निकाला जा रहा है उल्लेखनीय है कि कुछ सालों पहले भी बनास के पुल में दरारें साफ नजर आयी थी जिस पर खाना पूर्ति की गई थी आज एक बार फिर से दरार चौड़ी होने के साथ ही बनास पुल पर फुटपाथ वाला हिस्सा बाई ओर से झूलने लगा तो अधिकारियों के कानों तक यह बात पहुची ओर फुटपाथ के क्षतिग्रस्त होने के साथ ही संभावित खतरे को भांपते हुए पक्के बंधे के पास से जयपुर जाने वाले रास्ते को मिट्टी के कट्टों की दीवार बनाकर बंद कर दिया गया है और वाहनों को दूसरे पुल पर से निकालना जारी है पर बड़ा सवाल यही है कि आखिर कब तक बंद रहेगा बनास पुल पर यातायात ओर पुल के क्षतिग्रस्त होने की बड़ी वजह क्या है क्या बजरी का पुल के नीचे से किया गया अवैध खनन एक बड़ी वजह है,क्या पिल्लरों का खोखला होना बड़ी वजह है या फिर रख रखाव में कोई लापरवाही बरती गई है कि गंभीर सवालों के जवाब हम ढूंढेंगे बहुत जल्द पर फिलहाल बनास के पुल पर मंडराते खतरे की क्या है वजह इसका जवाब शायद किसी के पास नही है।
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *