December 11, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Uncategorized
  • बनेठा थाने के पुलिसकर्मियों पर लगा अवैध बजरी माफियाओं से साठगांठ करने का आरोप…

बनेठा थाने के पुलिसकर्मियों पर लगा अवैध बजरी माफियाओं से साठगांठ करने का आरोप…

By on September 2, 2018 0 456 Views

सांसद जौनापुरिया से कि चार पुलिसकर्मियों की शिकायत…

स्थानीय लोगो ने कहा पुलिस एक समुदाय के खनन माफियाओं की मदद कर रही है…

टोंक। (रोहित कुमार) टोंक जिले की बनास नदी से बजरी खनन सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक लगाए साल होने को है लेकिन ना अवैध खनन रूका हैं और ना ही खनन को लेकर लोगो में आपसी का सिलसिला रूक पाया हैं, ताजा मामला बनेठा थानाक्षेत्र का हैं जहां पर बनास नदी में हो रहे अवैध बजरी खनन की शिकायत स्थानीय लोगो ने सांसद सुखबीर जौनापुरिया से की हैं, टोंक आकर सांसद कार्यालय में सांसद से मिलकर शिकायत की कि पुलिस एक समुदाय के खनन माफियाओं मदद कर रही है। जिस कारण हैं क्षेत्र में धडल्ले से खनन चल रहा हैं। बनास में अवैध बजरी खनन को लेकर दो गुटों में खुनी संघर्ष के मामलें को कई बार सुनने को मिले होंगे लेकिन टोंक में बजरी खनन में पुलिसकर्मियों पर अपने समाज के लोगो की मदद करने का आरोप लगाया हैं,
बनेठा से जिला मुख्यालय पहुंचे ग्रामीणों ने सांसद सुखबीर जौनापुरिया से बनेठा थाने में तैनात कुछ पुलिसकर्मियों पर अपने समाज के लोगो से मिलीभगत कर खनन करवाने का आरोप लगाया हैं, उन्होने बताया कि पुलिसकर्मी खनन माफियाओं की ट्रेक्टर-ट्रॉलियों को सुरक्षित बाहर पहुंचाते तो है, रात के अंधेरे में कई दर्जन ट्रेक्टर-ट्रॉलियों बजरी भरकर जाती हैं जिनपर कोई कार्यवाही नही होगी। उन्होने बताया अगर कोई दूसरे समाज से जुडा व्यक्ति अपने जरूरत के लिए खनन करता हैं तो उनपर मोटा जुर्माना लगाया जाता हैं, बनेठा से आए मोहनसिंह गुर्जर, कानाराम, हनुमान, बाबूलाल सैनी आदि ने सांसद से अवैध रूप खनन करने वालों व भ्रश्टाचार में लिप्त पुलिसकर्मियों पर कार्यवाही की मांग हैं।
बनास नदी में बजरी का अवैध खनन किसी से छूपा नही हैं, कही संबंधित विभाग की लापरवाही तों कही पुलिस की मिलीभगत से बजरी खनन का अवैध खनन धडल्ले से चल रहा हैं। हम आपकों बता दे 16 नवंबर 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने टोंक जिले के बनास नदी में अवैध खनन पर पूर्णतया रोक लगा दी थी, जिसके बाद जहां लीज़ होल्डर ने अपनी मशीनों और ट्रक बनास नदी में हटा लिए थे, वही कुछ समय बाद ही नदी में स्थानीय खनन माफियाओं ने खनन शुरू कर दिया। समय-समय पर खनन व पुलिस की कार्यवाहियों के बावजूद नदी में खनन जारी हैं
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!