January 18, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • स्वच्छता सर्वेक्षण में सुधरेगी जयपुर की रैंकिग

स्वच्छता सर्वेक्षण में सुधरेगी जयपुर की रैंकिग

By on January 2, 2019 0 19 Views

देश के शहरों के बीच स्वच्छता कों प्रोत्साहित करने के लिए षुरू किया गया स्वच्छ सर्वेक्षण इस बार 4 जनवरी से शुरू हो रहा है। भारत सरकार की आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय की ओर से आयोजित इस सर्वेक्षण में देश के 4200 से ज्यादा शहर भाग ले रहे है। और इस सर्वेक्षण पहले पायदान पर आने के लिए इस बार जयपुर नगर निगम कोई कसर नही छोड़ना चाहता। यही वजह है कि निगम अपनी टीमों के साथ स्वच्छ सर्वेक्षण के मैदान में उतर गया है। साल 2015 में 476 षहरों के बीच स्वच्छ सर्वेक्षण आयोजित किया गया था।

इसके बाद साल 2016 में 73 शहरों में हुए सर्वेक्षण में जयपुर को 29वां स्थान मिला, मई 2017 में 434 षहरों के बीच जयपुर 215वें स्थान पर रहा। लेकिन स्वच्छ सर्वेक्षण को एक चुनौती के तौर पर देखते हुए 2018 सर्वेक्षण में 4000 से ज्यादा शहरों के बीच जयपुर ने 39वां स्थान प्राप्त किया। जिसे लेकर अब निगम प्रशासन नागरिकों की सत्रित्य भूमिका पर निर्भर है। इस बार स्वच्छ सर्वेक्षण 5000 अंको के लिए होगा। जिसमें से 1250 नागरिकों की भागीदारी पर निर्भर है। जबकि 1250 अंक सर्टिफकेषन से जुडे़ हुए हैं। षेश रहे ढाई हजार अंको पर निगम को जन सहभागिता से काम करना है।

स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर के निगम का दावा है की पूरे षहर के 91 वार्ड में डोर टू डोर कचरा संग्रहण की व्यवस्था चल रही है। वही शहर खुले में शौच मुक्त भी घोशित है। इसके अलावा करीब दो लाख से ज्यादा डस्टबीन और 5000 से ज्यादा ट्विन ट्विंस स्थापित किए गए है। ऐसे में इस बार स्वच्छता के पायदान पर जयपुर अंको में बाजी मार सकता है। इस संबंध में प्रचार प्रसार के लिए भी जयपुर शहर के अनेक स्थानों पर होल्डिंग्स, बैनर्स, एलइडी, वैन, नुक्कड़ नाटक और स्कूलों में बच्चों के माध्यम से नागरिको की भागीदारी भी सुनिश्रित की जाएगी। जयपुर मेयर मनोज भारदाज ने बताया कि जयपुर को भारत सरकार ने फास्टेस्ट मूविंग कैपिटल सिटी इन क्लीनली नेस का पुरस्कार दिया था। और इस बार स्वच्छ सर्वेक्षण में अच्छा प्रदर्शन करने पर जयपुर 39वें पायदान से पहले पहले पायदान पर भी आ जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!