March 20, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • 15 हजार की रिश्वत लेते बाबू गिरफ्तार

15 हजार की रिश्वत लेते बाबू गिरफ्तार

By on October 12, 2018 0 160 Views

अजमेर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने भ्रष्टाचार मुक्त अभियान चला रखा है। इसके तहत शिक्षा विभाग के बड़े बाबू यानि यूडीसी दीपेश कुमार शर्मा को 15 हजार की रिश्वत के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। यह रिश्वत स्कूल को क्रमोन्नत करने की एवज में मांगी गई थी। अजमेर एसीबी के अधीक्षक कैलाश चन्द्र बिश्नोई ने भ्रष्टाचारियों के खिलाफ मुहिम छेड़ रखी है कि शिकायत मिलते ही तुरंत भ्रष्टाचारियों को दबोच लिया जाऐ चाहे वह किसी भी क्षेत्र का हो। जिससे समाज में केन्द्र व राज्य सरकार के अधिकारियों की छवि कुछ स्तर तक सुधर सके। स्पेशल यूनिट प्रभारी मदनदान सिंह ने कहा कि ब्यावर निवासी विजय यादव लिटिल चैम्प मिडिल स्कूल के डायरेक्टर हैं। मदनदान सिंह आज एसीबी ऑफिस आए और माध्यमिक बोर्ड के जिला शिक्षा अधिकारी दीपेश शर्मा के खिलाफ शिकायत दर्ज कर बताया कि उनकी स्कूल को माध्यमिक स्कूल में क्रमोन्नत करने के लिए दीपेश शर्मा 50 हजार की रिश्वत की डिमाण्ड कर रहे हैं। शिकायत पर एसीबी की ओर से पूरी योजना के साथ जाल बिछाया गया। यूडीसी दीपेश शर्मा को पहली किश्त के रूप में 15 हजार की राशि ऑफिस के बाहर ही दिलवाई और रंगे हाथ दबोचा। गौरतलब है कि इससे पहले भी पिछले कुछ दिनों में बड़े-बड़े अधिकारी इस प्रकार की रिश्वत लेते पकड़े गये हैं। इससे समाज में लोगों का ईमानदारी पर से विश्वास उठता जा रहा है और बच्चो पर इसका गलत प्रभाव पड़ रहा हे।

ऑनलाईन में भी हेराफेरी

सरकार भले ही ऑनलाईन आवेदन करके भ्रष्टाचारी पर रोकथाम का प्रयास करे लेकिन सीट पर बैठे महोदय कोई न कोई तरकीब से अपनी जैब तो गर्म कर ही लेते है। इनकी जेबे गर्म न करने पर बड़े अधिकारी कोई न कोई खामी निकालकर आवेदन को ही खारिज कर देते हैं। आज भी ऐसा ही कुछ हुआ। विजय यादव ने स्कूल क्रमोन्नत करने के लिए ऑनलाईन आवेदन किया था। इसके बावजूद भी यूडीसी दीपेश शर्मा बिना घूस के काम नहीं होने की बात कह रहा था। उसने साफ कहा कि आज पैसे दे दो, उनका काम भी एक दो दिन में हो जाएगा। यूडीसी की बात से स्कूल डायरेक्टर यादव को धक्का लगा और वह सीधे एसीबी ऑफिस पहुंच गया। बड़े बाबू को रूपए लेने की भी इतनी जल्दी थी कि यादव को तुरंत राशि देने के लिए भी दबाव बनाया। जब यादव रंग लगे नोट लेकर पहुंचा तो बड़े बाबू ने बिना किसी खौफ के ऑफिस के बाहर ही राशि लेकर जेब में रख ली इस पर पहले से ही तैयार एसीबी की टीम ने इशारा मिलते ही दीपेश शर्मा को रंगों का दबोच लिया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!