March 20, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Tonk Special
  • आठवी कक्षा के विद्यार्थियों पर बोर्ड परिक्षा से बाहर होने का खतरा

आठवी कक्षा के विद्यार्थियों पर बोर्ड परिक्षा से बाहर होने का खतरा

By on October 29, 2018 0 81 Views

विद्यार्थी की आयु 13 नवंबर तक 16 साल से अधिक तो 8वीं बोर्ड परीक्षा से होगा वंचित

शिक्षा विभाग ने एक बार फिर 8वीं बोर्ड परीक्षा को लेकर विवादित गाइडलाइन जारी की है। गाइडलाइन के मुताबिक सरकारी और निजी स्कूलों में नियमित पढ़ाई कर रहे 16 वर्ष से अधिक आयु के विद्यार्थी आठवीं बोर्ड परीक्षा में नहीं बैठ सकेंगे। इस सुचना के बाद स्थिती ये है कि अब प्रदेश के करीब 20 हजार विद्यार्थियों के परीक्षा से बाहर होने का खतरा पैदा हो गया है। आयु की गणना 13 नवंबर को आधार मानकर की जाएगी। पिछले दो सत्रों में भी 8वीं बोर्ड परीक्षा में आयु को लेकर विवाद उठता रहा है, लेकिन शिक्षा विभाग इसमें कोई सुधार नहीं कर रहा। अब लगातार तीसरे साल फिर गाइडलाइन में यह विवादित बिंदु शामिल कर लिया है। दो साल पहले पहली बार जब इस मामले पर विवाद हुआ था तो विधानसभा में विपक्ष ने सरकार को जोरदार तरीके से घेर लिया था तथा विपक्ष के दबाव के कारण सरकार को तुरंत राहत देनी पड़ी थी। गौरतलब है कि आठवीं बोर्ड परीक्षा में 16 साल से अधिक आयु के विद्यार्थियों को पिछले दो सालों में भी फॉर्म भरने की छूट दी गई थी। शिक्षा विभाग का ये भी तरीका गलत बताया जा रहा है कि सत्र की शुरुआत में तो शिक्षकों को आयु सबंधी विषयों को लेकर कोई निर्देश जारी नहीं होता तथा बाद मे नामांकन नहीं बढ़ने पर संस्था प्रधानों को नोटिस थमाने का डर दिखाया जाता है। इस चक्कर में कई स्कूलों में 8वीं में 16 वर्ष से अधिक आयु के विद्यार्थियों को भी प्रवेश दे दिया जाता है। इस वर्ष 8वीं बोर्ड के लिए 30 अक्टूबर से 13 नवंबर तक ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आवेदन भराए जाएंगे। गाइडलाइन के मुताबिक आवेदन की अंतिम तिथि 13 नवंबर के आधार पर आयु की गणना की जाएगी। इस दिन तक 16 साल से अधिक आयु होने पर विद्यार्थी 8वीं बोर्ड परीक्षा के लिए आवेदन नहीं कर सकेगा। याद रहे कि इससे पहले भी शिक्षा विभाग कि ओर से इस प्रकार कि गाइडलाइन जारी कि जा चुकि है लेकिन विपक्ष के दबाव के कारण उनकों तुरंत बदल दिया गया। लेकिन बड़ा सवाल यही है कि आखिर ये नियम कब तक ऐसे अचानक लागू किया जाता रहेगा। विभाग के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों का भी यही कहना है कि सरकार को इस नियम को पूरी तरह से हटा देना चाहिए। विद्यार्थी अगर 8वीं कक्षा में नियमित पढ़ाई कर रहा है तो चाहे वह किसी भी आयु का हो, उसको आठवी बोर्ड में बैठने का अधिकार है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!