March 22, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • पांच सीटर कार में ग्यारह बैठे, अनियंत्रित होकर डंपर में जा घुसी

पांच सीटर कार में ग्यारह बैठे, अनियंत्रित होकर डंपर में जा घुसी

By on October 14, 2018 0 57 Views

कार में 4 बच्चे व 7 शिक्षिकाएं बैठी थीं, डंपर से टकराए, 8 की मौत

मृतकों में 3 बच्चे, 5 शिक्षिकाएं, उदयपुर में खेराड़ गांव के पास भीषण हादसा, तीन घायल

उदयपुर से 50 किमी दूर जयसमंद-सलूंबर मार्ग पर खेराड़ गांव के पास शनिवार सुबह स्विफ्ट डिजायर कार गिट्टी से भरे खड़े डंपर से टकरा गई। हादसे में 3 स्कूली बच्चों और 5 शिक्षिकाओं की मौत हो गई। एक बच्चा और दो शिक्षिकाएं गंभीर घायल हो गई। कार में 4 बच्चे व 7 शिक्षिकाएं सवार थीं। मृतकों में एक शिक्षिका व उनका बेटा तथा एक अन्य शिक्षिका की बेटी है। ये सभी सलूंबर स्थित द मॉरल एकेडमी स्कूल से पिकनिक के लिए जयसमंद झील जा रहे थे। स्कूल से दो कारें रवाना हुई थी। दुर्घटनाग्रस्त हुई कार को स्कूल संचालक कमलेश चैधरी की पत्नी प्रेक्षा चला रही थी। प्रेक्षा तो घायल हुई, लेकिन उनकी साढ़े 5 साल की बेटी गौरी की मौत हो गई। मृतकों में अलवर का लक्ष्य यादव (5), उसकी मां सरोज (30), सलूंबर निवासी कुपेंद्र सिंह (5), गीता मेघवाल (22), मोनिका खटीक (22), संतोष (28), मनीषा पुरी (22) भी हैं। ऐसा दिल दहला देने वाला हादसा जिसने भी देखा उसकी आंखों से आंसू न रूके स्कूल संचालिका प्रेक्षा चैधरी, सलूंबर निवासी 8 वर्षीय करण सिंह, 19 वर्षीय पायल शर्मा घायल हुए हैं। इनका एमबी अस्पताल में इलाज चल रहा है। टक्कर इतनी जोरदार थी कि कार घटनास्थल से 40 फीट दूर जाकर पलट गई। शव और घायल बुरी तरह कार में फंस गए, जिन्हें ग्रामीणों ने आधे घंटे की मशक्कत के बाद बाहर निकाला। इस हृदय विदारक घटना को जिसने भी देखा रो पड़ा। उधर, हादसे में मारी गई शिक्षिका मोनिका खटीक के परिजनों ने स्कूल प्रबंधन पर कार्रवाई की मांग को लेकर शव लेने से इनकार कर दिया।

ओवरलोड व लापरवाही ने ली आठ की जान

घायलों में से एक ने बताया कि स्कूल संचालक की पत्नि शिक्षिका प्रेक्षा चैधरी कार चला रही थी और उनकी गोद में साढ़े पांच साल की बेटी बेठी थी। बेटी को संभालने के चक्कर में तेज स्पीड कार अनियंत्रित होकर बजरी से भरे खड़े डंपर में जा घुसी। हादसा इतना तेज था कि कार में सवार 11 में से आठ की तो मौके पर ही मौत हो गई। और एक घायल कार से करीब साठ मीटर की दूरी पर घिसटती हुई गई। ऐसें में ये एक बड़ी लापरवाही सामने आ रही है कि पहले तो 5 सीटर कार में 11 का बैठना मुश्किल है ऊपर से ड्राईविंग सीट पर दो का बैठना। कार इतनी ओवरलोड न होती तो शायद सभी की जान बच जाती।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!