February 23, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • slider
  • मोगरे की महक से जुडी टोंक की पहचान…

मोगरे की महक से जुडी टोंक की पहचान…

By on July 18, 2018 0 380 Views

भीषण गर्मी मे भी टोंक के मुख्य चैराहे पर महक बिखेरते छोटे-छोटे सफेद फुलो की भीनी-भीनी खुशबु, जी हां हम बात कर रहे है अपनी इसी खासियत के लिये देषभर मे टोंक के मोगरे की, भले ही बजरी खनन ने टोंक मे खरबूजे और मिर्च की खेती को तबाह कर दिया है लेकिन उसके बावजूद मोगरे की खेती यहां के किसान से लेकर व्यापारी और माला बैंचने वालों के लिये फायदे का सौदा ही साबित होता है, और यही कारण है कि मोगरे की खेती कर किसान अपना जीवन भी महका रहे है, तो जानते है भीषण गर्मी मे कैसे महकाता है, मोगरा और कैसे जुडी है मोगरे से टोंक की पहचान देखिये
राजस्थान से लखनऊ कहे जाने वाले टोंक षहर सेे महज चार-पांच किलोमीटर के दायरे मे सौलंगपुरा, बक्खयापुरा, सरवराबाद जैसे गांवों की सैकडांे बीघा जमीन पर होती विष्वप्रसिद्ध मोगरे की खेती और भीषण गर्मी मे टोंक के किसानो के लिये वरदान होती है, मोगरे की खेती जहां किसानो के लिये फायदे का सौदा है, वही उससे व्यापारी और गली मोहल्लों और चैराहों पर मोगरे की माला बनाकर बैंचने वाले भी मोगरा से ना सिर्फ अच्छी आमदमी कमा पाते है बल्कि माला बनाकर बैचने वाले लोग इससे अच्छा मुनाफा कमाते है, लोग बताते है कि गर्मियों मे मोगरे की माला की बहुत मांग होती है, और टोंक मे भले ही इसकी इतनी खपत नही हो पाती है, लेकिन महानगरों मे इसकी बहुत मांग रहती है, इससे जो इत्र बनाया जाता है वह अन्य इत्र के मुकाबले ज्यादा खुषबुदार होता है।
जबकि मे टोंक उत्पादित होने वाला मोगरा अपनी खास खुशब के चलते टोंक से बाहर दिल्ली, मुम्बई, और अहमदाबाद जैसे महानगरो मे भी मांग के साथ बिकता है, भले ही मोगरे की खेती को दो से तीन साल लगते हो परन्तु फसल तैयार होने के बाद यह किसानों के लिये वरदान बन जाता है, किसानों के अनुसार लगभग 20 साल तक एक बीघा जमीन पर बोई गई मोगरे की फसल उनका परिवार चलाने के लिये काफी है, साथ इससे जुडे खर्च होने के बावजूद उन्हे अच्छा मिल जाता है, यही कारण है टोंक के साधारण किसान बरसो से मोगरे की खेती कर जहां महक से लोगो का जीवन महका रहे है, वही मोगरे की खेती से होने वाली आय से उनका जीवन भी चहक रहा है, जहां प्रति साल किसान प्रति एक बीघा जमीन पर खेती करके मोगरे के फुलो से 60 हजार से लेकर 80 हजार रूपये तक कमाता है, वही व्यापारी भी एक साल भी लाखांें का मुनाफा कमा लेते है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!