March 18, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Others
  • Technology
  • आतंक के साथ लड़ाई में भारत-सऊदी साथ।

आतंक के साथ लड़ाई में भारत-सऊदी साथ।

By on February 21, 2019 0 24 Views

 

नई दिल्ली
भारत ने बुधवार को सऊदी अरब के सामने पुलवामा हमले का मु६ा उठाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सऊदी अरब के क्राउन पिं्रस मोहम्मद बिल सलमान बिन सऊद की मौजूदगीमें कहा कि आतंकवाद फैलाने वालों पर दबाव बनाने की जरूरत है। वहीं, सऊद क्राउन पिं्रस ने इस मु६े पर भारत का पूरा साथ देने का वादा किया। दोनों देशों के बीच पांच करार हुए। सऊदी अरब भारत में 100 अरब डाॅलर (करीब 7.1 लाख करोड़ रू) का निवेश करेगा। जबकि एक दिन पहले उसने पाकिस्तान के साथ 20 अरब डाॅलर के करार किये थे। मोदी की मांग पर क्राउन पिं्रस ने 850 भारतीय कैदियों को रिहा करने के आदेश भी दिए।

साझा बयान में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, प्रिंस सलमान का भारत के पहले दौरे पर स्वागत करते हुए खुशी है। दोनों देशों के बीच संबंध निकट और पुराने रहे हैं। आपके मार्गदर्शन से हमारे द्विपक्षीय संबंधों में मधुरता आई हैं। इक्कीसवीं सदी में सऊदी अरब भारत की ऊर्जा का महत्वपूर्ण स्त्रोत है। उन्होंने कहा, मुझे खुशी है कि हम द्विवार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए तैयार हुए हैं। आज हमने संबंधों पर व्यापक चर्चा की है। आर्थिक संबंधों को नई ऊंचाई पर लेकर जाने का फैसला किया है। मैं भारत के इंफ्रास्ट्रकर में सऊदी के निवेश का स्वागत करता हूं। दुनिया की सबसे बड़ी पेट्रोलियम रिफायनरी में सऊदी की भागीदारी उसे बहुत आगे ले जाती है। सऊदी का सहयोग विशेषकर परमाणु ऊर्जा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में अहम है। आज हमने कारोबार और पर्यटन को बढ़ाने के लिए सऊदी नागरिकों के लिए ई-वीजा जारी करने का फैसला लिया है।

उन्होंने कहा, पिछले हफ्ते पुलवामा में हुआ बर्बर हमला दुनिया पर छाए आतंकवाद को बढ़ाने और समर्थन देने वाले देशों पर संभव दबाव बनाने की जरूरत है। आतंकियों और इसके समर्थकों को सजा दिलाना बहुत जरूरी है, ताकि वे युवाओं को हिंसा के रास्ते पर चलने के लिए गुमराह न कर पाएं। मुझे खुशी है कि हम दोनों देश इस बारे में एक जैसे विचार रखते हैं। क्राउन प्रिंस ने कहा, भारत में डेलिगेशन हेड के तौर पर यह मेरी पहली यात्रा है। दोनों देशों ने पिछले 50 साल में संबंधों में मजबूती हासिल की है। हम कृषि और ऊर्जा के क्षेत्र में मिलकर आगे बढ़ सकते हैं। हमने 44 हजार अरब डाॅलर का निवेश किया है। हम चाहते हैं कि दोनों देश मिलकर निवेश को फायदेमंद बनाएं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!