March 22, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Interview
  • Politician
  • विधानसभा चुनाव में कई प्रत्याशी अपनी जमानत तक नहीं बचा सके।

विधानसभा चुनाव में कई प्रत्याशी अपनी जमानत तक नहीं बचा सके।

By on December 17, 2018 0 56 Views

 

राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव में लोकतंत्र की खूबसुरती के कई दिलचस्प नजारे देखने को मिले। जहां 278 करोड़ रूपए की घोषित आय वाली सबसे धनी उम्मीदवार और मौजूदा विधायक इस बार वोटों के मामले में कंगाल साबित हुई। वहीं एक उम्मीदवार अपने अलावा उन छह लोंगो को ढूंढ रहा, जिन्होंने उसे वोट दिया। दरअसल उसे सबसे कम सिर्फ सात वोट ही मिले है। इस बार विधानसभा चुनाव में सबसे अमीर प्रत्याशी जमींदारा पार्टी की कामिनी जिंदल (घोषित आय 287 करोड) थी। पिछली विधानसभा में सबसे धनी विधायक रही कामिनी गंगानगर सीट पर इस बार अपनी जमानत तक नहीं बचा सकी। केवल 4887 मतों के साथ छठे स्थान पर रही। रोचक बात यह है कि गंगानगर की चर्चित सीट पर निर्दलीय राजकुमार गौड़ विजयी रहे जो कांग्रेस के बागी हैं।

विधानसभा चुनाव में कम से कम दो प्रत्याशी ऐसे रहे जिन्हें दस या दस से भी कम मत मिलें। इनमें जयपुर में किशनपोल सीट पर निर्दलीय शमीम खान को सात और सादिक को केवल 10 वोट मिले। राज्य की 200 विधानसभा सीटों में से 199 सीटों पर सात दिसंबर को मतदान हुआ। कुल 2274 प्रत्याषी मैदान में थे जिनमें से 1822 की जमानत जब्त हो गई। आंकड़ों के नजरिए से देखा जाए तो 2018 के विधानसभा चुनाव में कुल 88 राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याषी उतारे। इनमें भाजपा ने सभी 199 सीटांे पर, कांग्रेस ने 194, बसपा ने 189 और आप ने 141 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए। इसके अलावा 830 निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपना चुनावी भाग्य आजमाया। निर्दलीय उम्मीदवारों का प्रदर्शन इस बार काफी अच्छा कहा जा सकता है क्योंकि 13 सीटों पर न केवल निर्दलीय उम्मीदवार जीते बल्कि बामनवास, करणपुर, मेड़ता, रतनगढ़, पाली थानागाजी और सिवाना सहित दस सीटों पर वे दूसरे नंबर पर रहे। यानी कुल मिलाकर साढ़े नौ प्रतिशत मतों के साथ उन्होंने लगभग 25 सीटों पर परिणाम को सीधे-सीधे प्रभावित किया। राज्य की थानागाजी सीट पर तो मुख्य मुकाबला ही दो निर्दलीय उम्मीदवारो के बीच रहा, जिसमें कांति प्रसाद जीते और हेम सिंह दूसरे स्थान पर रहे। इसी तरह भाजपा ने इस बार दो धर्मगुरूओं को टिकट दिया था। सिरवियों के धर्मगुरू और वसंुधरा राजे सरकार में गौ पालन मंत्री रहे ओटाराम देवासी सिरोही में कांग्रेस के बागी संयम लोढ़ा से हार गए। भाजपा ने पोकरण सीट पर विख्यात तारातरा मठ के महंत प्रतापुरी को टिकट दिया था। यहंा कांग्रेस के शाले मोहम्मद जीते।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!