March 18, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Others
  • Technology
  • अब राजस्थान में भी वोटिंग के लिए नहीं खड़ा होना पड़ेगा लाइन में

अब राजस्थान में भी वोटिंग के लिए नहीं खड़ा होना पड़ेगा लाइन में

By on October 24, 2018 0 81 Views

जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आती जा रही है वैसे ही चुनाव आयोग नई-नई योजनाओं से जनता के लिए सहूलियत बनाता जा रहा है कि उनकों वोटिंग के लिए ज्यादा परेशानी का सामना न करना पड़े। कर्नाटक की तरह इस बार राजस्थान में भी वोट डालने के लिए लम्बी कतारों में घंटों खड़े रहना नहीं पड़ेगा। चुनाव आयोग ने क्यूलेस वोटिंग व्यवस्था की घोषणा कर दी है। साथ ही अब वोटर एक क्लिक से ये भी देख सकेंगें कि किस मतदान केन्द्र पर कितनी भीड़ है। इस बार चुनाव आयोग ट्रेनों की तरह बूथों की निगरानी करेगा। मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं के लिए पुरी व्यवस्था की जाएगी। वोट डालने के लिए नंबर आने तक मतदाताओं के बैठने के लिए टेंट या अन्य छायादार व्यवस्था सरकार की ओर से की जाएगी, जहां बैठकर वो अपनी बारी का इंतजार कर सकेगा। इसके साथ ही छोटे बच्चों को दूध पिलाने माताओं, प्रसूताओं और वरिष्ठजनों को कतार और टोकन से अलग रखते हुए प्राथमिकता से वोट दिलाने की व्यवस्था की जाएगी। क्यू लेस वोटिंग का प्रयोग इससे पहले कर्नाटक में भी सफलतापूर्वक हो चुका है। इसी को आधार बनाते हुए राजस्थान में इस व्यवस्था को लागू करने के लिए कवायद हो चुकी है। हाल में निर्वाचन आयोग में चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने एक बैठक में यहां इस पर चर्चा कर इसे लागू करने की सलाह दी। उन्होंने इसे कागजों तक ही सीमित नहीं रखने की भी हिदायत दी। इसी के अनुसार इस कार्ययोजना को मूर्त रूप दे दिया गया है। चुनाव विभाग के उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी विनोद पारीक ने बताया कि नोडल अफसरों के लिए हुई वर्कशॉप में इस बारे में सभी को अवगत करा दिया गया है। इस पर होने वाले खर्च का आकलन किया जा रहा है।
बूथ पर आने वाले सभी मतदाताओं को वहां तैनात कर्मचारी टोकन जारी करेंगे। इनमें टोकन धारी मतदाताओं को पांच या दस के समूह में आवाज लगाकर वोट डालने के लिए बुलाया जाएगा। यह व्यवस्था इसी क्रम में आगे जारी रहेगी। छोटे बच्चों को दूध पिलाने वाली मां, प्रसूता और वरिष्ठजनों को लाइन में लगने या टोकन लेने की जरूरत नहीं होगा। उनको क्रम से अलग हटकर मतदान की सुविधा दी जाएगी। बड़े स्थानों पर महिलाओं के लिए अलग बूथ बनाने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों को पहले से निर्देश जारी किए हुए हैं। हर बूथ पर दो-दो वाॅलिंटियर लगाएंगे, जो वरिष्ठजनों या विशेष योग्यजनों को मतदान केंद्र में वोटिंग मशीन तक ले जाने आदि में मदद करेंगे। ये वाॅलिंटियर एनसीसी कैडेट्स या स्काउट गाइड के होंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!