December 11, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • तांत्रिक ने गर्म सलाखों से दागा मासूम को।

तांत्रिक ने गर्म सलाखों से दागा मासूम को।

By on August 2, 2018 0 212 Views

चौदह महीने की मासूम आक्सीजन पर।

बांसवाड़ा में दिल दहला देने वाली करतूत।

:– राजस्थान के बांसवाड़ा में अंध विश्वास और तंत्र मंत्र की दिल दहलादेने वाली घटना सामने आई है जब अन्धविश्वाश की जद में जकड़े एक परिवार ने अपनी बच्ची के इलाज के लिए एक तांत्रिक पर विश्वाश किया और उस कथित भोपे ने इलाज के नाम पर बच्ची को लोहे की गर्म सलाख से दाग दिया फिलहाल 14 माह की मासूम आक्सीजन पर है और तांत्रिक भोपा फरार है।

राजस्थान के बांसवाड़ा में आज भी शिक्षा का अभाव नजर आता है पिछले कुछ माह में ही इलाज के नाम पर शरीर को गर्म सलाखों से दागने की सात घटनाएं सामने आई है और लोगो को इलाज के नाम पर शरीर दाग दिया गया है।
मासूम के साथ हुई घटना में भी  मां और दादी उपचार के लिए पहुंची भोपे के पास के पास पहुची थी जिसमे बच्ची के उपचार में फर्क नही पड़ने पर उसके शरीर को दाग दिया गया। जिससे मासूम की हालत नाजुक बनी हुई है और वह अस्पताल में भर्ती है।जिले में बच्चों को गर्म सलाख से दागने का सातवां मामला, बच्ची  को  महात्मा गांधी अस्पताल में किया भर्ती ,बांसवाड़ा. जिले के आनंदपुरी क्षेत्र के नवाघरा में तीन दिन पूर्व भोपे ने चौदह माह की बालिका की पीठ पर गर्म सलाख से दाग दिया। इसके बाद तबीयत और बिगडऩे पर बुधवार को परिजन उसे एम जी अस्पताल लेकर आए, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।अरथूना थाना क्षेत्र की ओडा पंचायत के लालपुरा गांव निवासी विनोद खांट ने बताया कि उसकी 14 माह की बच्ची हुकी की पिछले कई दिनों से तबीयत खराब है। उसे परतापुर और आनंदपुरी सरकारी चिकित्सालयों दिखलाया। इसके अलावा निजी अस्पतालों में भी उपचार करवाया, लेकिन कोई राहत नहीं मिली। जिसके उपचार के नाम पर हुकी की मां ऊषा और उसकी दादी रविवार को डाम दिलाने के लिए आनंदपुरी क्षेत्र के नवाघरा गईं, जहां भोपे ने गर्म सलाख से बच्ची की पीठ पर तकरीबन दो इंच का डाम लगाया। भोपे ने दो सौ रुपए भी लिए। डाम लगाने के बाद भी बच्ची की तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। इस पर परिजन बुधवार दोपहर को महात्मा गांधी अस्पताल लेकर पहुंचे।

ऑक्सीजन पर बच्ची

गंभीर हालत में अस्पताल पहुंचने पर बच्ची को चिकित्सकों ने आननफानन उपचार दिया और उसे ऑक्सीजन पर रखा, लेकिन देररात तक भी बच्ची की हालत नाजुक बनी हुई थी। उल्लेखनीय है कि जिले मे फरवरी से अब तक उपचार के नाम पर मासूमों को डाम लगाने का यह सातवां मामला है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!