December 14, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

पैंथर ने लगाई मौत की छलांग ।

By on September 19, 2018 0 162 Views

बिजली के तार पर करंट से पैन्थर की मौत।

बंदर के शिकार को लगाई थी पैन्थर ने छलांग।

पाली जिले में पैन्थर ने छलांग तो लगाई थी शिकार के लिए बंदर पर पर उसकी यह छलांग आखरी साबित हुई और बंदर के साथ उसकी भी बिजली के तार पर टकराने से करंट से मौत हो गयी ओर सुबह पैन्थर करंट से मौत के बाद बिजली के तार पर लटका मिला तो उसके नीचे काले मुंह का बंदर भी मृत मिला।पाली जिले के पचलवाड़ा में पैन्थर ने शिकार के लिए खुद बंदर पर लगाई छलांग पर खुद ही हो गया बिजली का शिकार गांव में रात को शिकार के लिए छलांग लगाने वाला पैंथर स्वयं बिजली के तार में प्रवाहित करंट का शिकार होकर अपनी जान गंवा बैठा, इस घटना में पैंथर ओर एक बंदर की मौत हो गई। सुबह ग्रामीणों की इस पर नजर पड़ने के बाद शिकार में जान गंवाने की यह घटना पूरे गांव में चर्चा का विषय बन गई और घटना स्थल पर मजमा लग गया,यह बात गांव में आग की तरह फैल गई।उसके बाद उपखण्ड अधिकारी और वन विभाग का महकमा भी मौके पर पहुचा ओर पैन्थर के शव को नीचे उतारकर उसके पोस्ट मार्टम की प्रक्रिया पूरी की गई और उसे दफन किया गया।

ग्रामीणों ने बताया कि रानी के पाचलवाडा गांव में रात लगभग 2.30  बजे एक पैंथर घूम रहा था ओर उसका मूवमेंट था इसी दौरान अपने प्रिय शिकार बंदर के शिकार के प्रयास में रात को वह पेड़ पर बैठे एक बंदर का शिकार करने के लिये पेड़ पर चढ़ा। उसे देख बन्दर ने पेड़ से छलांग लगाने की कोशिश की। पैंथर ने भी उस पर छलांग लगा दी। लेकिन, पैंथर पेड़ से गुजर रही 11केवी के बिजली के तारों में फंस गया। साथ ही बन्दर भी इस करंट के सम्पर्क में आ गया। और दोनों की मौत हो गई। वन विभाग के अधिकारी पैंथर ओर बन्दर का शव वन कार्यालय लेकर गए । जहा पोस्टमार्टम के बाद दोनों के शव को एसडीएम की उपस्थिति में आग के हवाले कर दिया गया।

राजस्थान में खास तौर पर बीते एक साल में पैन्थर सहित वन्य जीवों का मूवमेंट आबादी वाले इलाकों तक पहुचा है जिसका नुकसान वन्यजीवों को अपनी जान की कीमत चुकाकर अदा करना पड़ रहा है शायद इसकी बड़ी वजह जंगल मे मानवीय दखल ही है और घटते जंगल इसकी बड़ी वजह है ऐसे में वन्यजीवों पर मंडराते संकट से जल्द ही सबक नही लिया तो न जंगल ही बचेंगे ओर न ही वन्यजीव।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!