March 22, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • वनक्षेत्र में बढ़ी पैंथर की मुवमेंट ….

वनक्षेत्र में बढ़ी पैंथर की मुवमेंट ….

By on September 8, 2018 0 181 Views

वनकर्मी सीमित संसाधन के साथ लगातार वनक्षेत्र में गश्त कर रहे हैं….

टोंक। पिछले कुछ समय से टोंक जिला मुख्यालय वनक्षेत्र में मादा पैंथर और उसके शावक की मुवमेंट बढने से जहां आस-पास के लोग खौफजदा हैं, वही रोजाना अपने मवैषी चराने जाने वालें चरवाहों के माथे पर भी चिंता की लकीरे दिखाई दे रही हैं। दरअसल पिछले कुछ दिनो से कच्चा बंधा वनक्षेत्र में पैंथर द्वारा शिकार की लगातार वारदात बढ़ रही हैं, वनकर्मियों ने भी क्षेत्र में पैंथर होने की पुश्टी करने के साथ-साथ लोगो व चरवाहों से घने वनक्षेत्र से दूर रहने की नसीहते दी हैं। टोंक षहर के औद्योगिक क्षेत्र के पास स्थित दुधिया बालाजी क्षेत्र से लेकर कच्चा बंधा क्षेत्र में इन दिनों पैंथर द्वारा गाय के बछड़ों और नीलगाय सहित अन्य जानवरों का षिकार करने की लगातार खबरे आ रही हैं शुक्रवार को भी पैंथर ने एक बछडे और नीलगाय का शिकार किया हैं,
वनकर्मी सीमित संसाधन के साथ लगातार वनक्षेत्र में गष्त कर रहे हैं साथ ही जंगल में अपने मवेषियों के साथ घुमने वालो चरवाहो को पैंथर के क्षेत्र में दूर रहने को आगाह कर रहे हैं। सदर वनक्षेत्र के नाकाप्रभारी वीरसिंह राजावत ने बताया कि लगातार ग्रामीणों व चरवारों से पैंथर की मुवमेंट की षिकायत मिल रही है, लेकिन जब हम पहुंचते हैं जानवर वहां से निकल चुका होता हैं हालांकि उसके द्वारा षिकार के अवषेष के रूप में मृत जानवरों के षव जरूर मिलते हैं, लेकिन पगमार्ग से पैंथर की होने का भय जंगल में फैल चुका हैं, राजावत के अनुसार वहां एक मादा पैंथर व उसका षावक कंइे दिनों से षिकार कर रंह हैं, चूंकि बरसात का समय हैं और जंगल पहले से ज्ंामद घना हो चुका हैं, इसलिए वनविभाग की ओर से लोगो को प्रभावित वनक्षेत्र से दूर रहने की नसीहत दी गई हैं वही दूसरी ओर जंगल में अपनी जान की परवाह किए बगैर मवैषी चरानेे वाले चरवाहांे कि माने तो उन्होने कई बार पैंथर को देखा हैं जबकि एक-दो बार तो वह उनके मवेषियों पर भी हमला कर उनको मार चुका हैं, कच्चा बंधा क्षेत्र में पिछले कई सालों से मवैषी चरा रहे है परषुराम ने बताया कि पिछले 7-8 महिने से पैंथर यहां मौजूद हैं लेकिन पिछले 20-25 से वह लगातार षिकार कर रहा हैं। कभी नीलगाय, सुअर सहित कई जानवरों के अलावा गाय के बछडों का भी षिकार पैंथर ने किया हैं, उसके बताया कि उनकी मजबूरी हैं इसलिए जंगल में आना पड़ता हैं। बहरहाल टोंक के वनक्षेत्र में छायी हरियाली इन दिनो पैंथर द्वारा लगातार षिकार की घटनाओं से आम इंसान के ज़हन में खौफ पैदा कर रही हैं, सीमित संसाधन में काम करने वाले वनकर्मी अपने तर्जुबे और पैंथर फुट मुवमेंट पहचान कर पैंथर की टेरेटरी से दूर रहकर खूद का बचा कर है जबकि आमजन से भी पैंथर के एरिया से दूर रहने की नसीहत देते नजर आ रहे हैं।
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!