December 14, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • अवैध बजरी से भरे पांच डंपर पकड़े पुलिस ने।

अवैध बजरी से भरे पांच डंपर पकड़े पुलिस ने।

By on August 28, 2018 0 135 Views

राजस्थान में बजरी बनी माफियाओ की पहली पसंद

बजरी माफियाओ के आगे सब महकमे नतमस्तक।

भीलवाड़ा,टोंक,अजमेर में बजरी माफियाओ का राज कायम होता नजर आता है तो वही सुप्रीम कोर्ट की बजरी पर रोक राजस्थान में प्रभाव नही छोड़ पाई है प्रतिदिन सेकड़ो ट्रकों,डंपरों ओर कंटेनरों से बजरी का परिवहन जारी है और कभी कभार ऊंट के मुंह मे जीरे समान कार्यवाही पुलिस और खनिज महकमा अपनी इज्जत बचाने को करता है ऐसी ही कार्यवाही काछोला पुलिस ने करते हुए बजरी के पांच डंपरों को किया जब्त।
भीलवाड़ा में बजरी का अवैध कारोबार कई महकमो की जेब गर्म कर रहा है और सुप्रीम कोर्ट की बजरी खनन पर राजस्थान में रोक सर्वाधिक बेअसर भीलवाड़ा में नजर आती है और बजरी का काला कारोबार 24 घंटे संरक्षण में जारी है ऐसे में काछोला थाने के एसएचओ ने की बजरी माफिया पर बड़ी कार्रवाई की है और यह कार्यवाही ग्रामीणों के सहयोग से की गई है जिसमे बजरी भरे पांच डम्पर पकड़े गए है।यहां
सुप्रीम कोर्ट के आदेश ओर एसपी के निर्देशों की  सरेआम उड़ाई जा रही थी धज्जियां ,बजरी खनन मामले में पहले से
मांडलगढ़,काछोला पुलिस प्रशासन की भूमिका सन्दिग्ध रही है। भीलवाड़ा जिले की काछोला उप तहसील क्षेत्र  से सटी बनास नदी के आसपास के गांवो  में बजरी माफियाओं द्वारा दबंगई जता कर  धड़ल्ले से बजरी का अवैध खनन किया जा रहा हैं। क़ाछोला के नए थानेदार की कार्रवाई के बाद  बजरी माफिया में हड़कम्प मच गया है ।रलायता पंचायत के पास बजरी से ओवरलोड़ भरे पांच डम्परों को ग्रामीणों ने घेरा बन्दी कर रोका और  पुलिस को सूचना देकर बुलाया ।क़ाछोला पुलिस ने बजरी भरे डम्परों को जब्त कर  चालकों को गिरफ्तार किया हैं।  पुलिस उप अधीक्षक बर्दी चंद गुर्जर के निर्देशन में काछोला के  एसएचओ सी पी यादव ने रलायता बिलिया में बजरी से भरे 5 डम्पर जब्त किए हैं।कार्रवाई के दौरान डम्पर चालक भाग छूटे,हालाँकि पुलिस ने बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया।थानाधिकारी यादव ने बताया कि देर रात को ग्रामीणों ने सूचना कर बताया कि बनास नदी में रोक के बावजूद अवैध खनन कर बजरी को डम्परों में परिवहन कर  बूंदी की ओर ले जाया जा रहा हैं।ग्रामीणों की सूचना पर मय जाब्ते के तुरन्त मौके पर पहुंच कर डम्परों को जब्त किया।ग्रामीणों द्वारा की गई कार्रवाई के दौरान भनक लगने से शेष  खाली ओर बजरीभरे डम्पर फरार हो गए।ओर बिलिया व रलायता तथा थलकलां में बजरी भरे वाहन कहीं छुपा दिए गए।हालांकि ग्रामीणों ने बनास नदी के पास लगे दर्जनों बजरी के स्टॉक पर जांच की लेकिन बजरी माफिया ओर वाहन भूमिगत हो गए।
रलायता बिलिया, केसरपुरा,पदमपुरा ओर आस पास के गांवों के ग्रामीणों का आरोप हैं कि बनास नदी में जेसीबी मशीनों से दिन में ट्रैक्टर ट्रॉलियों से बजरी को भरकर  निकाल कर सरकारी व खातेदारी भूमि में भारी मात्रा में स्टॉक किया जाता हैं। और रात के अंधेरे में  लोडिंग वाहनों में भर कर बाहरी राज्य और जिलों में भेजा जाता हैं।इस कारोबार में बजरी माफिया को मोटी कमाई हो रही हैं वहीं उपभोक्ताओं को महंगी बजरी खरीदनी पड़ रही हैं।
बजरी के अवैध खनन से नदियों का स्वरूप बिगड़ता जा रहा है वहीं गांवों में डामर की सड़कों को ओवरलोड़ बजरी भरे वाहनों ने क्षतिग्रस्त कर दिया हैं।बजरी से भरे वाहन  पूरी रात तेज गति से दौड़ते ओर चालक तेज आवाज में टेपरिकॉर्डर बजाते निकलते हैं जिससे ग्रामीण परेशान हैं।
ग्रामीणों ने बताया कि बजरी का अवैध धंधा पिछले एक साल से चल रहा हैं कई बार पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को शिकायत की लेकिन प्रभावी कार्रवाई नही हो सकी। रात में क़ाछोला के नए थानेदार की प्रभावी कार्रवाई से ग्रामीणों ने आभार जताया हैं।
क़ाछोला थाने के नव नियुक्त प्रभारी चन्द्र प्रकाश यादव ने बताया कि डीएसपी बरधी चन्द्र गुर्जर  के निर्देश पर बजरी से भरे वाहनों पर कार्रवाई कर जब्त वाहनों को काछोला थाने में लाकर खड़ा किया गया हैं।
इस मामले में डंपर चालक राकेश पुत्र रामनिवास मेघवाल ,हेमराज पुत्र गोपाल मीणा निवासी रघुनाथपुरा जिला बूंदी, महावीर पुत्र नंदा मीणा ,लटूर लाल पुत्र रामदेव मीणा निवासी जालम की झोपड़ियां ,थाना मांडलगढ़,शरीफ मोहम्मद पुत्र रशीद मोहम्मद मुसलमान निवासी तालाब गांव जिला बूंदी को गिरफ्तार कर लिया गया है।प्रारम्भिक जांच में जब्त डम्पर तालाब गांव जिला,बूंदी के बताए जा रहे है।
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!