January 17, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • पुलिस वाहन से तेज दौडते है अवैध खनन माफियाओं के वाहन…

पुलिस वाहन से तेज दौडते है अवैध खनन माफियाओं के वाहन…

By on October 16, 2018 0 238 Views

पत्थर बिखेर कर भागा ट्रेक्टर चालक… 

देखती रह गई पुलिस… 

टोंक।(रोहित कुमार)  टोंक को नवाबी नगरी के रूप जानने वाले लोग शायद यह नही जानते है, कि यहां पर अवैध से होने वाले धंधे परवान पर है, चाहे वह पहाडों पर होता अवैध पत्थर खनन हो या बनास नदी मे होता अवैध खनन हो या फिर पूरे जिले मे फैला अवैध शराबमाफियाओं का जाल, जी हां आज हम बात करने जा रहे है, जिलें की पहाडियों पर हो रहे अवैध पत्थर खनन की। ना कोई लीज और ना ही खनन पटटा पर टोंक मे आये दिन खुलेआम अरावली पहाडियो पर हो रहे है विस्फोट और यह सब हो रहा नवाबी नगरी टोंक शहर मे जहां पत्थरो का अवैध खनन इस कदर जारी और खनन माफियाओ के बुलन्द हौंसले की बडी वजह पुलिस और वन विभाग की मिली भगत, यही कारण है कि टोंक कि पहाडिया भले ही दिनदहाडे खनन के लिये धमाको से गुंजती हो पर प्रसाशन के कानो को यह आवाजे नही सुनाई तक देती है, चेजा पत्थरों के अवैध खनन का गढ़ बन चुके टोंक में खनन माफियाओं के हौंसले इतने बुलंद हो गए हैं कि अब पहाड़ी क्षेत्रों में प्रतिदिन कई विस्फोट होते हैं। जिसके बाद खुलेआम अवैध पत्थर भरकर दौड़ती ट्रेक्टर-ट्रॉलिया पुलिस व प्रशासन का मुंह चिढ़ाते हुए शहर में गुजरती आराम से दिखाई देती हैं।
जिसका एक रोजक नजारा आज सुबह देखने को मिला जब अस्तल क्षेत्र से पत्थर भरकर ले जाई जा रही ट्रेक्टर ट्रोली जयपुर कोटा बाई पास रोड से होकर गूजर रही थी,तब ट्रेक्टर ट्रोली को पकडने के लिये घात लगाये बैठी पुरानी टोंक थाना क्षेत्र की मोबाईल टीम ने पीछा कर उसे पकडने की कौशिश की तब पकडे जाने के डर से ट्रेक्टर चालक घबराकर मोहल्ला छावनी के दूध वालों के मोहल्ले में ट्रेक्टर को लेकर घूस गया, पुलिस जीप को नजदीक आते देख अपनी चतुराई दिखाते हुयें ट्रेक्टर चालक ने ट्रोली को उचा करके पत्थरों को सडक पर गिराना शुरू कर दिया, अपने सामने बिखरे बडे-बडे पत्थरों के कारण पुलिसकर्मी अपनी जीप सहित वही रूक गयें जिससें ट्रेक्टर चालक भागने में कामयाब हो गया, हालाकि पुलिसकर्मी पैदल भी ट्रेक्टर के पीछे दौडा लेकिन उसे सफलता नही मिली, पुलिस देखती रह गई। पत्थर माफियों की हिम्मत देखो कि थोडी देर में मौके पर चार लोग आते है, पत्थरों को एकत्र करने लगते है,लेकिन इसी समय बस स्टेण्ड पुलिस चौकी से कास्टेबल राजेश कुमार के आने से वहा से भाग गये। मिली जानकारी के अनुसार बिखरे हुये पत्थरों को ट्रेक्टर वाले ने मोहल्ले के ही निवासी को एक हजार रूपये मे बेचकर चलता बना और पुलिस को पता भी नही चला। यहां यह कहावत चरितार्थ हो जाती है, जिसमें कहा गया है, ’तू डाल-डाल मैपात-पात’।
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!