March 21, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • आतंकवाद को मिल रहा हैं पाकिस्तानी सेना का समर्थन….

आतंकवाद को मिल रहा हैं पाकिस्तानी सेना का समर्थन….

By on September 23, 2018 0 72 Views

थलसेनाध्यक्ष जनरल विपिन रावत ने कहा

भारतीय सेना सरहद पर मजबूत इरादों के साथ तैनात हुई हैं। सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता भारत की सैन्य शक्ति का परिचायक। भारत के सेनाध्यक्ष जनरल विपिन रावत ने मीडिया रूबरू होते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राईक को लेकर पिछले एक साल में सरहद की सुरक्षा किस रुप में किस तरह की गई है इस फोरम में नही बता सकता। लेकिन पिछले एक साल में सरहद की सुरक्ष को लेकर अहम कदम उठाए गए हैं उन्होनें कहा कि इस दौरान पाकिस्तान की नापाक हरकतों करारा जबाव दिया, लेकिन हमारी सेना की ओर से कभी बर्बरता नही की गई। अगर ऐसा होता रहा तो कार्रवाई आगे भी करेंगे। राजनेता सेना का इस्तेमाल कर रहे हैं के सवाल पर उन्होने कहा कि इस पर कुछ कहना गलत हैं लेकिन हमे सरकार की ओर से छूट मिली हैं जिसका परिणाम भी सकारात्मक आया है। उन्होने कहा कि हथियार खरीद में देरी होना ठीक नही है, नए हथियार की आवश्यकता रहती हैं आधुनिक हथियार खरीदते रहने चाहिए। आतंकवाद को रोकने कें लिये जो कार्रवाई है। उसका फर्क पड़ा है कि आज दुनिया से पाकिस्तान अलग-थलग हो रहा हैं। क्योंकि कभी पाकिस्तान का सगा संबंधी रहने वाला अमेरिका आज जिस तरीके से पाकिस्तान पर हावी हुआ हैं। हमारी सरकार उसे अलग-थलग करने में काफी हद तक कामयाब हुई हैं।

आतंकवादियों और पाकिस्तानी सेना द्वारा सैनिकों सेे बर्बरता का बदला लेना जरूरी
सेनाध्यक्ष ने संवाददाता सम्मेलन में कहा आतंकवादियों व पाकिस्तानी सेना द्वारा हमारे सैनिकों के खिलाफ बर्बरतापूर्ण कार्रवाई का बदला लेने के लिए हमें कड़ी कार्रवाई करने की जरूरत है. उन्हें उन्हीं के तरीके से जवाब दिए जाने का समय है लेकिन वैसी ही बर्बरता अपनाने की जरूरत नहीं। दूसरे पक्ष को वही दर्द महसूस होना चाहिए। दरअसल जम्मू कश्मीर में बीएसएफ के एक जवान के शव से हैवानियत की घटना के मुद्दे पर सेनाप्रमुख ने कहा कि किसी भी सेना की ओर से ऐसा का काम करना गलत हैं औ यह अस्वीकार्य हैं इसका बदला लिए जाने की जरूरत हैं।
हजार से अधिक सैनिक किसी ना किसी हादसे का शिकार हो जाते हैं, ऐसे में सैनिकों का पूरा ख्याल रखा जाता हैं, वहीं आतंकी मुठभेड और युद्ध मे शहीद होने वाले परिवार को अधिक मदद दी जाती हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि धमकी से डर गए तो फिर आगे क्या करेंगे. भारत या सेना धमकियों से डरने वाली नहीं हैं। इसके साथ ही रावत ने दावा किया कि 2016 में उरी हमले के बाद भारतीय सेना द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की घटना अपनी तरह की पहली कार्रवाई थी। मीडिया से रूबरू होने के दौरान उन्होने आमजन के लिए संदेश दिया कि अपनी फौज पर भरोसा रखिए, फौज का हौंसला बनाये रखे, आप चैन से रहे क्योंकि हम सरहद पर आपकी सुरक्षा के लिए खड़े है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!