January 19, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Interview
  • Social Workers
  • शिक्षकों ने की शिकायत, छात्र स्कूल में बना रहा है आतंक का माहौल

शिक्षकों ने की शिकायत, छात्र स्कूल में बना रहा है आतंक का माहौल

By on October 22, 2018 0 36 Views

शिक्षकों ने जिस पर आरोप लगाए वह 9वीं कक्षा का एक मूक बधिर छात्र है।

राजधानी जयपुर के त्रिमूर्ति सर्किल स्थित राजकीय सेठ आनंदीलाल पोद्दार मूक बधिर स्कूल का 9वीं का एक विद्यार्थी ना तो बोल सकता है और ना ही सुन सकता है। ऐसी हालत में जब एक मुक बधिर छात्र ने खुद के साथ हुए अन्याय के खिलाफ शिकायत की तो स्कूल के कुछ शिक्षक उसकी बात को सही तरीके से समझ नहीं पाए ओर उससे ऐसे डर गए जैसे कि वो स्कूल का माहौल खराब कर रहा हो मामला यही शांत नहीं हुआ समझदार शिक्षकों ने मासूम बच्चें के खिलाफ शिक्षा विभाग में यह कहते हुए शिकायत दर्ज करा दी की वो स्कूल में आतंक व अराजकता का माहौल बना रहा है। उन्होंने शिकायत में कहा कि इस विद्यार्थी से हमें बचाया जाए। वह हमें धमकाता व डराता है और खराब वातावरण पैदा कर रहा है। हमें इस विद्यार्थी से सुरक्षा दिलाई जाए और हमारे जान माल की रक्षा की जाए। दरअसल, यह सारा मामला तब शुरू हुआ जब 8 अक्टूबर को स्कूल प्रिंसिपल को हटाने की मांग को लेकर विद्यार्थियों ने धरना दिया था। उस दिन शिक्षकों की शिकायत पर इस विद्यार्थी को शांतिभंग के आरोप में पुलिस ने पकड़ लिया था। जब यह पुलिस से छूटा तो स्कूल में जाकर विद्यार्थी ने उसको पुलिस में पकड़ाए जाने का विरोध किया। तब से ही शिक्षक डरे हुए हैं। शिकायत मिलने के बाद संयुक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने स्कूल प्रिंसिपल को एक कमेटी बनाकर मामले की जांच के निर्देश दिए। इसके बाद प्रिंसिपल ने ममता गुप्ता की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय जांच कमेटी का गठन किया। जिसकी रिपोर्ट जल्द ही आने की सम्भावना है।
शिकायतकर्ता शिक्षक कुलदीप पाठक का कहना है कि यह विद्यार्थी उद्दंडी है। इसने लड़कियों से अभद्रता की थी, जिसकी लड़कियों ने शिकायत की थी। जब इससे बात की तो ना केवल उनसे बल्कि, अन्य शिक्षकों से भी यह गलत तरीके से बोला। इसलिए हमने इसकी शिकायत कर दी थी। 9वीं का मूक बधिर विद्यार्थी लगातार अपनी सांकेतिक भाषा समझा रहा है कि उस पर झूठे आरोप लगाए जा रहे है ओर वह बेकसूर है। उसने इशारों से बताया कि ऊपर वाला ओर वह जानता है कि वो निर्दोष है। शिक्षकों ने उसे पुलिस में पकड़वाया। उसे पढ़ना है और पुलिस का अधिकारी बनना है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!