January 18, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Tonk Special
  • कांग्रेस की रणनीति बिगाड़ने चुनावी मैदान में उतरे बागी।

कांग्रेस की रणनीति बिगाड़ने चुनावी मैदान में उतरे बागी।

By on November 20, 2018 0 55 Views

 

40 से ज्यादा कांग्रेस के बागी मैदान में।

 

कांग्रेस ने भले ही प्रत्याशियांे कि लिस्ट देरी से घोषित की हो लेकिन फिर भी कांग्रेस पार्टी टिकट कटने वाले नेताओं को बागी होने से नहीं रोक सकी। कांग्रेस में 40 से ज्यादा बागी उम्मीदवारों ने पार्टी रणनीतिकारों कि चिंताएं बढ़ा दी है। कांग्रेस में कई पूर्व मंत्री और बड़े नेता भी बगावत कर गए हैं। बूंदी से अपने बेटे का टिकट कटने के बाद नाराज कांग्रेस नेता ममता शर्मा ने पार्टी छोड़ दी और भाजपा में जाकर अगले ही दिन टिकट ले लिया। इसी तरह कोटा सांसद इज्यराज सिंह और उनकी पत्नी कल्पना राजे ने भी कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गई। कल्पना राजे को भाजपा ने लाडपुरा से उम्मीदवार बनाया, इसी तरह पूर्व मंत्री रामकिशोर सैनी ने भी बांदीकुई से टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया, भाजपा ने सैनी को बांदीकुई से टिकट दिया है। टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस छोड़ने वाले नेताओं की फेहरिस्त लंबी हैं, जायल सीट से टिकट नहीं मिलने पर अनिल बारूपाल, लाडनू से जगन्न्ााथ बुरड़क, नागौर से शमशेचर खोखर ने टिकट नहीं मिलने पर हनुमान बेनीवाल की पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से टिकट ले लिया। कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने पर 40 से ज्यादा नेता ऐसे हैं जिन्होंने कांगे्रस की रणनीति बिगाड़ने के लिए दूसरी पार्टी ज्वायन करने की बजाय निर्दलीय ही मैदान में ताल ठोक दी है। साथ ही इनमें कांग्रेस के हमजोली नेता भी शामिल है जो पार्टी छोड़ र्निदलीय है खड़े हो गए। पूर्व केन्द्रीय मंत्री महादेव सिंह खंडे़ला से, संयम लोढ़ा सिरोही से, पूर्व संसदीय सचिव रामकेश मीणा गंगापुरसिटी से, कृपाराम सौलंकी नागौर से, आलोक बेनीवाल शाहपुरा से, मोहनसिंह सांजू डेगाना से, प्रदेश महासचिव रमेश खींची कठूमर से बगावत करके निर्दलीय चुनाव मैदान में हैं। कांग्रेस आलाकमान तक बागियों से चिंतित हैं बागी खेल नहीं बिगाड़ दें, इस चिंता के चलते कांग्रेस ने डेमेज कांट्रोल के तहत नाराज बागियों को मनाना शुरू कर दिया है। बागियों के मनाने के लिए अब पार्टी के पास 22 नवंबर तक का समय है, 22 नवंबर को नामांकन वापसी की अंतिम तारीख है, कांग्रेस नेता अब बागियों की नाम वापसी की कवायद में लग गए हैं, अगर बागियों को कांग्रेस नहीं मना पाई तो बागी जीते या हारे पर कांग्रेस पार्टी के समीकरण जरूर बिगाड़ देगें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!