April 25, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Photo
  • पेड़ों की अवैध कटाई रोकने एवं पर्यावरण की रक्षा विभाग का पहला उत्तरदायित्व
khabarplus 18

पेड़ों की अवैध कटाई रोकने एवं पर्यावरण की रक्षा विभाग का पहला उत्तरदायित्व

By on February 4, 2019 0 90 Views

वन एवं पर्यावरण ( स्वतंत्र प्रभार ) तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति राज्य मंत्री सुखराम ने कहा कि पेड़ो की अवैध कटाई रोकने एवं पर्यावरण की रक्षा करना विभाग का पहला उत्तरदायित्व है। उन्होंने कहा कि नम्बरिंग करने के पश्रचात वीडियोग्राफी करवाई जाए।

वन राज्य मंत्री बिश्नोई रविवार को जिले के एक दिवसीय दौरे के दौरान कनेक्ट्रेट सभा हाॅल में आयोजित बैठक में निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा लगाए गये पौधों में से अधिकतम पौधे जीवित रहे। हमारा प्रयास रहना चाहिए कि सौ पौधों में से कम से कम 80 पौधे जीवित रहे। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देष दिए कि अधिकतम फलदार पौधे नर्सरियों मे तैयार किये जाये। वन भूमि पर बसी आबादियों के नियमितीकरण के संबंध में कहा कि ऐसे प्रकरण पर्यावरण मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन आते हैं।

उन्होंने कहा कि वत्य जीवों की रक्षा के लिए वन्य जीव कानून की कड़ाई से पालना की जाये। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि वन्य जीव अधिनियम के तहत 14 प्रकरण सामने आए, जिनमें 12 प्रकरणों में चालान कर दिया गया है। जिले में सूरतगढ़ व रायसिंहनगर क्षेत्र में हरिण व मोर के शिकार संबंधी प्रकरण सामने आये हैं। नील गाय के संबंध में वन राज्य मंत्री ने कहा कि नील गाय श्रद्वा के साथ जुड़ी हुई है।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति राज्य मंत्री सुखराम बिश्नोई ने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत अधिकतम पात्र नागरिकों को राश्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का लाभ मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में 59 प्रतिशत तथा शहरों में 49 प्रतिषत नागरिक लाभ ले रहे हैं। अभी इसमें और नागरिकों को जोड़ने की गुंजाइष है। उन्होंने कहा कि कोई उपभोक्ता किसी भी दुकान से राषन ले सकता है। जिस दुकानदार का व्यवहार उच्छा नहीं होगा वहां उपभोक्ताओं की संख्या कम होती चली जाएगी। बैठक में नगर परिशद् क्षेत्र में संचालित एसटीपी की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि नगरपालिकाओं के गंदे पानी को ट्रीट करने के बाद ही खेती व सब्जियां उगाने में काम में लिया जा सकता है। श्रीगंगानगर षहर प्रक्रिया को गति देने के निदेश दिए। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे आबादी बढे़गी वैसे-वैसे कचरे में बढ़ोतरी होगी। हमें समय रहते इसका उचित प्रबन्धन करना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!