September 25, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

TONK KI SADKO PAR AWARA JANWARO KA JAMVDA

By on June 10, 2018 0 22 Views

 

सडकों पर आंवारा जानवरों का राज
टोंक की सडको पर पिछले कुछ महिनांे से आवारा जानवरो का राज नजर आ रहा है और जहां भी सडक पर नजर डालो जो यही लगता है कि यह सडके इन जानवरो के बैठने के लिये ही बनी है, छावनी सर्किल से लेकर घण्टाघर तक शाम होते-होते सैंकडों की संख्या मे जानवर बैठे एवं घुमते दिखाई देते है,वही दिनभर सडकों इनके बैठने के कारण आये दिन हादसे हो रहे है, लेकिन नगर परिषद अधिकारी इस बारे मे कुछ बोलने से बचते नजर आते है

सडक पर बैठी इन गायो को देखकर आपको यह सोचना पडेगा की इतनी मात्रा मे यह गाये आखिर क्या कर रही है और कहां से आयी है, दरअसल यह गाये इन दिनो अक्सर सडक दुर्घटनाओ का कारण बन रही है, वही सडक पर इनसे आवागमन मे भी काफी परेषानी टोंक की जनता को उठानी पड रही है पर टोंक की जनता के लिये यह नजारा हर दिन का है ओर सुबह से लेकर षाम तक टोंक की सडको पर इन्ही गायो को राज नजर आता है, पर नगर परिषद कर्मियों और अधिकारियों को यह दिखाई नही देते है, जबकि घण्टाघर से लेकर छावनी तो अधिकारियों की गाडिया भी दोडती रहती हैं। वैसे तो सालभर टोंक की जनता को आवारा जानवरो की समस्याओ से रूबरू होना पडता है, जबकि इससे नगर परिषद को कोई सरोकार नजर नही आता, नगर परिषद के पास इन आवारा गायो को पकडकर रखने के लिये कांजी हाउस की व्यवस्था है और नगर परिषद के अधिकारी शायद इसलिये कैमरे के सामने आने से बचने हुये नजर आते है, षहर में घुमने वाले आवारा पषुओं की संख्या ही लगभग ढाई तीन हजार के करीब है,जिसमें से अधिकतर पषु सवाई मधोपुर चौराह, बंमोर रोड व हाईवे सहित इन जगहो पर आये दिन इन आवारा पषुओ के कारण ही अधिकतर दुर्घटना होती है, वही पर दान करने वाले लोगो के द्वारा ही मुख्य सडक के बीच में ही पषुओ को चारा डालने से भी यह समस्या और अधिक बढ जाती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *