November 13, 2018
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • News
  • Video
  • टोंक विधानसभा सीट पर बीजेपी मे किस किस कीे दावेदारी ।

टोंक विधानसभा सीट पर बीजेपी मे किस किस कीे दावेदारी ।

By on October 21, 2018 0 731 Views

अजीत मेहता,महावीर जैन या राजेन्द्र गुर्जर …
टोंक, रविश टेलर । राजस्थान कि एक मात्र नवाबी रियासत रही टोंक कि सीट पर लम्बे समय से काग्रेस ओर बीजेपी अल्पसख्यक उम्मीदवारो को चुनाव लडाते आई हे ओर लगभग 2 लाख 23 हजार 500 सौ मतदाताओ वाली टोंक सीट पर इस बार भी बार फिर से जंहा बीजेपी से वर्तमान विधायक अजीत मेहता के साथ महावीर प्रसाद जैन की मजबुत दावेदारी है तो राजैन्द्र गुर्जर पर पार्टी दांव खेल सकती है,अब तक पार्टी ओर ऐजेंसीयो के सर्वे मे यही नाम पार्टी तक पहुंचे है वही काग्रेस भी अल्पसख्यक चैहरो के रूप मे जकिया,सऊद  सईदी,मोईनुद्वीन निजाम या किसी युवा चेहरे पर दाव खैल सकती है ऐसे मे एक बार फिर से इस सीट पर दोनो ही पार्टीयो के बीच अल्पसख्यको को उम्मीदवार बनाये जाने की प्रबल सम्भावना है अब देखना यह होगा कि की चुनावी समर मे किस दल से कौन बाजी मार पाता है फिलहाल मंथन ओर फिडबैक के दोर से दोनो पार्टिया गुजर रही है तो टिकिट कि चाह मे दावेदार जयपुर से लेकर दिल्ली तक एक किये हुऐ है।
Bjp

जैन फिर से हुए सक्रिय

टोंक विधानसभा सीट पर इस बार बीजेपी के ओर से भले ही दावेदारो मे एक दर्जन से अधिक नाम अपनी दावेदारी पैश कर रहे हो पर संगठन ओर सत्ता कि नजर मे तीन ही नाम टिकिट कि दोड मे शामिल हे जिसमे पहला नाम विधायक अजीत मैहता का है जिन्होने 2013 मे इस सीट पर सबसे बडी जीत हासिल थी ओर पिछले पांच सालो मे उन्होने विकास के नये आयाम स्थापित किये हे पर उनका विरोध उन्हे भारी पड सकता है तो महावीर प्रसाद जैन पिछले कुछ महिनो मे प्रबल दावेदार बनकर सामने आये है वही एकमात्र ऐसे विधायक हैै टोंक विधानसभा सीट पर 1980,1990,1993 ओर 2003 मे 4 बार विधायक बने हे वही इस सीट पर लगातार दो बार चुनाव जितने वाले वही एक मात्र विधायक भी है पर बडती उम्र ओर पिछले 10 सालो से आमजन से उनकी दुरिया उनकी कमजोरी हे पर संध मे उनकी पकउ आज भी बहुत मजबुत मानी जा रही हे, तो तीसरा प्रबल नाम है देवली-उनियारा विधायक राजेन्द्र गुर्जर का जिन्होने भले ही टोंक से आवेदन नही किया हो पर टोंक सीट पर गुर्जर मतदाताओ के लगभग 33 हजार वोटो का होना ओर संध ओर आमजन मे उनकी मजबुत पकड के साथ उनकी बैदाग ओर कटटर हिन्दु छवि के चलते पार्टी ओर संध अन्तिम समय मे उनके नाम पर मोहर लगा सकते है।
टोंक विधानसभा सीट के बात कि जाये तो इस सीट पर कोई भी विधायक पिछले 20 सालो मे लगातार दो बार कभी जीत हासिल नही कर सका है ओर हर बार इस सीट पर जीत अलग अलग चैहरो कि हुई हे ऐसे मे 2013 के पिछले विधानसभा चुनाव मे 30 हजार 343 मतो से अब तक कि सबसे बडी जीत का इतिहास लिखने वाले अजीत सिंह मेहता कि राह इस बार अतीत के परिणामो को देखते हुऐ आसान नही हे लेकिन पिछले चुनावो मे उनकी ऐतिहासिक जीत के बाद उनके टिकिट काटे जाने को कोई बडा कारण समझ नही आता बस पार्टी कि आन्तरिक कलह ही एक मात्र वजह नजर आती है या फिर राजनेतिक गलियारो मे लगाये जाने वाले यह कयास कि पार्टी इस बार लगभग 125 विधायको के टिकिट काटेगी।

 टिकिट कि दौड मे बीजेपी के एक दर्जन चैहरे ।

ः- ऐसा नही है कि बीजेपी मे टोंक विधानसभा सीट पर दावेदारी करने वालो का अकाल हो आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर टिकिट कि दौड मे जंहा जिलाध्यक्ष गणेश माहुर,सभापति लक्ष्मी जैन,राजेन्द्र पराणा,हैमन्त लाम्बा,पण्डित महावीर शर्मा,नरेश बंसल,उप सभापति अजय सैनी,कमलेश सिंगोदिया,अशोक कासलीवाल के नाम भी शामिल है पर बात अगर मजबुत ओर टिकाऊ उम्मीदवार की कि जाये तो इनमे से कोई भी दावेदार तभी आगे बड पायेगा जब पार्टी उसे जिताऊ उम्मीदवार कि श्रेणी मे पायेगी ।
TONK

TONK VIDHANSABHA CHUNAV 2018 BJP KE PRMUKH DAVEDAR

बीजेपी कि राह नही आसान ।

ः- टिकिटो के लिये भले ही बीजेपी मे टोंक सीट पर कई नाम हो पर इतिहास गंवाह है कि 1993 मे बाबरी मस्जिद विघ्वस के बाद हुऐ चुनावो मे महावीर प्रसाद जैन कि दुसरी जीत को छोडकर आज तक कोई भी इस सीट पर कभी चुनाव नही जीत सका है वही पिछले पांच सालो मे टोंक मे समस्याओ ओर सरकार के वादो कि जिले मे पोल खोलने को ईसरदा बांध का निर्माण शुरू न होना,रेल के मुद्वे पर टोंक मे मुख्यमंत्री का साफ इंकार,बिजली,पानी स्वास्थ जैसी कई समस्याऐ बीजेपी उम्मीदवार की जीत कि राह मे कई बडी बाधाये बन सकती है ।
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!