March 22, 2019
Breaking News

Sign in

Sign up

  • Home
  • Interview
  • Politician
  • प्रत्याशी उडा रहे आचार संहिता का मखोल

प्रत्याशी उडा रहे आचार संहिता का मखोल

By on November 29, 2018 0 149 Views

लापरवाही से हो रहे प्रत्याषियों के हौंसलें बुलंद

टोंक।

विधानसभा चुनाव में ज्यादा से ज्यादा मतदान के लिए भले ही जिला प्रशासन स्वीप योजना के तहत तरह-तरह के कार्यक्रम कर रहा हैं लेकिन प्रत्याशी प्रशासन की अनेदखी का फायदा उठाकर खूलेआम आदर्श आंचार संहिता का मखौल उठा हैं जिले की निवाई विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा पीपलू क्षेत्र के सभी गांवों में 90 फीसदी सार्वजनिक बिजली खंभों पर फ्लैक्स बैनर लगाकर आचार संहिता का उल्लंघन किया गया है। हालांकि इसकी सूचना मिलने पर विधानसभा पर्यवेक्षक ने इन्हे हटवाना शुरू कर दिया हैं। पर्यवेक्षक सूंग चुंगम जाटक चीरू के निर्देश पर पीपलू में आचार संहिता का उल्लंघन पाए जाने पर स्थानीय प्रशासन ने पीपलू के घाणा चैराहे पर फ्लैक्स बैनर हटाने की कार्रवाई की। हालांकि अभी तक क्षेत्र के सभी गांवों में यह फ्लैक्स बैनर सभी खंभों पर लगे हुए है, जिन्हें हटाया नहीं गया है। इसी तरह निवाई निर्वाचन कार्यालय के अनुसार कांग्रेस प्रत्याशी को 2, भाजपा प्रत्याशी को 3 व अन्य को 3 वाहन स्वीकृत है। जबकि प्रचार में दर्जनों वाहन दौड़ते हुए दिखाई दे रहे है। जिससे आचार संहिता का खुलेआम उल्लंघन हो रहा है। ऐसे में इसकी जानकारी मिलने पर निवार्चन कार्यालय हरकत में आया है। पीपलू पुलिस ने पीपलू के कांग्रेस कार्यालय पर पहुंचकर प्रत्याशियों के झंडे बैनर लगे हुए स्वीकृत वाहनों से अधिक पाए गए वाहनों का चालान करने की कार्रवाई की हैं। हालांकि कार्यवाही में नरमी के कारण प्रत्याशी आचार संहिता का लगातार उल्लंघन कर रहे है।

प्रत्याषियों द्वारा आंचार संहिता को मखोल उठाने का यह पहला मामला नही हैं सिर्फ पीपलू मे नही बाकि क्षेत्रों में भी प्रत्याषी कई जगहों पर आंचार संहिता की धज्जिया उडाने से बाज नही आ रहे हैं। प्रत्याषियों की समर्थक बिना किसी की मंजूरी के झंडे और बेनर घरों पर लगा रहे हैं, जिससे लोगो में खासा आक्रोषित हैं बुधवार को जवाहर बाजार स्थित ज्ञानचंद जैन के मकान पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने बिना इजाजत पार्टी के कई झंडे लगा दिया, जिसको विरोध करते हुए जैन ने निर्वाचन अधिकारी को षिकायत लिखकर संबंधित पार्टी कार्यकर्ताओं पर कार्यवाही की मांग की हैं।  इसके अलावा जिले में मुख्य दलो के कार्यकर्ताओं अपनी मर्जी से बाजार ही नही घरों में पोस्टर बैनर लगा कर जा रहे हैं। इसके अलावा सत्ताधारी पार्टियां के नेताओं के अलावा विपक्षी पार्टियों के नेता जनता से वोट मांगने के बडी-बडी घोशणाए कर रह हैं जबकि आचार संहिता लगने के बाद मुख्यमंत्री या मंत्री अब न तो कोई घोषणा कर सकते हैं। साथ ही प्रत्याशी और राजनीतिक पार्टी को रैली, जुलूस निकालने, मीटिंग करने के लिए इजाजत पुलिस से लेनी होती है। जबकि प्रचार के दौरान जगह-जगह प्रत्याषी सभाए कर अपनी पार्टियों का प्रचार कर वोट बटोरने मे लगे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!